Wednesday, March 9, 2011

क्यों न रावन की जगह आज राम को जलाया जाए

 इरान की एक महिला जेल की सलाखों मैं बंद है उसका कसूर था की उसने अपनी पति की हत्या कर दी ! उसका पति एक अय्याश किस्म का आदमी था जो जबरन उससे वैश्यावृत्ति करवाता था , शादी के बाद अगले ही दिन उसे अपने पति की हकीकत का पता चल गया था !पिछले दस से बारह सालों से वो जबरन उसे वैश्यावृत्ति के लिए मजबूर करता चला आ रहा था वह मजबूर थी क्योंकि इरान के क़ानून मैं पति से तलाक लेना कोई आसान काम नहीं हैं ! न जाने इतने  साल वो कितने ही आदमियों के सामने कैसे खुद को परोसती रही और इन बारह सालों मैं उसने अपनी मजबूरी को कभी अपनी मर्जी नहीं बनने दिया! एक दिन अपने पति के किसी दोस्त की सहायता से उसने अपने पति की हत्या कर दी , तब से लेकर आज तक वो जेल की सलाखों मैं बंद है ! आज उसे जेल मैं दस साल साल बीत चुके हैं और वो पति का दोस्त जिसने उसे हत्या के लिए उकसाया था आज खुले आम घूम रहा है !इरान के कानून ने  आज उसे सरेआम पत्थर से मार मार कर मार डालने की सजा दी है ! भारत सरकार से उसने मदद की गुहार लगाईं है !यह कहानी इरान की नहीं बल्कि एक ऐसे संसार की है जहाँ हर कदम पे महिलाओं को एक तुच्छ प्राणी समझ कर उनकी उपेक्षा की जाती है! आखिर क्यों होता है ऐसा की एक औरत जो  कभी माँ बनकर, कभी बेटी बनकर, कभी पत्नी बनकर तो कभी पुत्री बनकर मर्द की सेवा करती है  जब उसे एक दिन जरुरत होती है किसी मर्द की तो उस दिन ये सेवा करने वाले हाथ नदारद होते हैं !आखिर कोई क्यों नहीं समझता की हर कदम पर अत्याचार सहने वाली ये औरत समाज की सबसे बड़ी जरुरत है जिसके बिना कोई भी कार्य असंभव है ! कहते हैं की हर मर्द की सफलता के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है, कहते हैं की एक औरत ही मकान को घर बनती है पर क्या ये सही है की घर बनने के बाद उसी औरत को घर से निकल दिया जाए ? हर अत्याचार आज सिर्फ औरतों के साथ ही क्यों हो रहा है ? क्या सिर्फ इसलिए की आज की औरत कंधे से कन्धा मिला कर मर्द के साथ चल रही है ? या इसलिए की आज उसने बुर्के को उतार फेंका है और मनमाने वस्त्र पहन कर सबके सामने आने लगी है,? या इसलिए की अब उसने घर के सीमा लांघ कर दफ्तर जाना शुरू कर दिया है?या इसलिए की अब वो एक शादी करके सारी ज़िन्दगी किसी ऐसे आदमी के साथ नहीं गुजार सकती जो उसके सुख दुःख मैं उसका साथ न दे पाए वास्तव मैं एक कड़वा सच तो यही है की ये वो देश है जहाँ राम बसते थे जिन्होंने स्वयं अपनी पत्नी सीता पर अत्याचार किया था !जिन्होंने निर्दोष होने पर भी अपनी पत्नी सीता की अग्निपरीक्षा ली थी और इस अग्निपरीक्षा के उपरान्त भी उन्होंने सीता को घर से निकाल दिया था !अगर वे भगवान् थे तो उनके लिए अपनी पत्नी का परित्याग करना सही नहीं था !क्योंकि वो जानते थे की सीता निर्दोष है!उसी राम का अनुसरण तो करता है ये संसार, और इसीलिए उस राम को पूजा जाता है और रावन को जलाया जाता है !सुन कर भले ही अजीब लगे परन्तु ये एक तथ्य है की रावन बहुत ही धार्मिक किस्म का आदमी था जिसने अपनी कठिन पूजा के बल पर अमर होने का वरदान प्राप्त किया था ! उसने अपनी बहन के अपमान का बदला लेने के लिए अपना राज्य, अपने प्राण और अपने वंश को भी दांव पर लगा दिया था !आज भी न जाने कितने ही राम  अपनी पत्नियों को घर से निकल देते हैं चाहे वे दहेज़ के कारन निकालें या फिर शक के आधार पर! तथ्य तो यही है की वो आज के युग के राम हैं !और न जाने कितने ही रावन आज भी अपनी बहन बेटी और माँ की इज्ज़त के लिए लड़ते हैं पर आज भी बदले मैं उन्हें वही आग नसीब होती है जिसमे रावन आज भी जल रहा है ! 
औरत के साथ अन्याय आज कोई नयी बात नहीं है वो तो किसी न किसी रूप मैं होता ही रहता है चाहे वो दहेज़ का मसला हो .चाहे भ्रूण हत्या का या फिर कोई और , ये मानसिक रूप से विक्षिप्त एक इसे समाज की कहानी है जिसने अपनी संकीर्ण मानसिकता के चलते कितनी ही स्त्रियों को मौत की नींद सुला दिया !न जाने कितनी ही समस्याओं के कारण आज भी हमारा समाज लड़कियों को वो जगह नहीं दे पाया जिसकी वे हकदार हैं !आज भी बहुत सी लड़कियां ऐसे माहोल मैं जन्म लेती हैं जहाँ लड़की का जन्म होते ही वातावरण मैं अजीब सी चुप्पी और ख़ामोशी व्याप्त हो जाती है !लड़के के इंतज़ार मैं बेठे गाना बजने वालों को घर के बुजुर्गो द्वारा मूक भाव से जाने का संकेत दे दिया जाता है !और यही लोग फिर कन्याओं की भ्रूण हत्या करने से भी नहीं चुकते! उपरोक्त कहानी भी इरान की नहीं बल्कि इस पुरे संसार की है जहाँ हर कदम पर महिलाओं को संघर्ष का सामना करना ही पढता है !पर अब महिलायें कमजोर नहीं हैं अब वो हर राम का मुकाबला करने मैं काफी हद तक सक्षम है! अगर आप सहमत हैं तो क्यों न निश्चय करें की इस बार रावन की जगह राम को जलाया जाए ?जय हिंद !




























10 comments:

  1. बहुत अच्छे!! दिल प्रसन्न हो गया!! बगावत की गंध मज़बूत होती रहे!!

    ReplyDelete
  2. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में पर्याप्त सफलता तक पहुँचने के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । आप इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और अगली विशिष्ट जानकारियों के लिये इसे फालो भी अवश्य करें । निश्चय ही आपको इससे अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...
    http://najariya.blogspot.com/2011/02/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  3. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  4. जबरदस्त ... विचारोतेजक .... नयी एवं तथ्यात्मक सोच ..... बहुत सुन्दर रचना ..... लिखती रहो ... समय मिलने पर यहाँ भी पधारे http://unbeatableajay.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. जायज़ सवालों की बगावत है. और यकीनन यह आवाज़ ऊँची होती रहेगी तो 'सब कुछ' बेहतर होकर ही रहेगा.
    जारी रहें.
    --
    विजिट करें

    ReplyDelete
  6. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    नि:शुल्‍क संस्‍कृत सीखें । ब्‍लागजगत पर सरल संस्‍कृतप्रशिक्षण आयोजित किया गया है
    संस्‍कृतजगत् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो संस्‍कृत के प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  7. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके., हो सके तो फालोवर बनकर हमारा हौसला भी बढ़ाएं.
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    ReplyDelete
  9. रावण और राम में कोई तुलना ही नही है मेरे अनुसार आप का वैचारिक स्तर कम है या वो नही है जो होना चाहिये श्री राम भगवान को मर्यादा पुर्षोत्तम कहा गया है क्यो ये जानने के लिये पह्ले रामचरित्र मानस का मनन करिये ।

    ReplyDelete